केजरीवाल के दादा ने चटाई थी कांग्रेस को धूल

0
439

arvind-kejriwal-54ce6a1b8f36c_exlstकरीब दो साल पहले आम आदमी पार्टी का गठन कर सियासत के गलियारों में कदम रखने वाले अरविंद केजरीवाल के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं कि उनके पूर्वज भी राजनीति में कांग्रेस से लोहा लेकर उनसे मात देने वालों में प्रथम पंक्ति के नेताओं में से एक थे।

वर्ष 1977 में हुए लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के दिग्गज नेता बंसीलाल को इस परिवार ने उस समय पटखनी दी थी, जब उनके नाम का यहां बोलबाला था। पूरे जिले में सबसे पहले बंसीलाल के खिलाफ बगावत का झंडा अरविंद केजरीवाल के दादा ने ही उठाया था। उन्होंने जनता पार्टी की प्रत्याशी चंद्रावती का सिवानी में न केवल कार्यालय खुलवाया, बल्कि उनके पक्ष में खुलकर प्रचार भी किया था।

उस समय चौ. बंसीलाल ने अरविंद केजरीवाल के दादा मंगलचंद को मनाने की कोशिश भी की थी, लेकिन जुबान के धनी समझे जाने वाले मंगलचंद ने जनता पार्टी का साथ नहीं छोड़ा। उस समय रिकॉर्ड तोड़ मतों से चंद्रावती की जीत भी हुई थी।

यहां यह भी बता दें कि अकेले केजरीवाल के दादा मंगलचंद ने ही वर्ष 1968 से 1977 तक हरियाणा में एकछत्र राज करने वाले बंसीलाल को चुनाव में पटखनी देने में अहम भूमिका अदा की थी, चूंकि मंगलचंद की भिवानी जिले में सामाजिक कार्यों के चलते लोगों में अच्छी खासी पैठ थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here