तो उत्तराखंड में भी भूंकप से हो सकती है त‌बाही

0
346

3भगवान न करे ऐसा हो, लेकिन अगर रिक्टर पैमाने पर 6.0 से अधिक तीव्रता का भूकंप आता है तो दून में तबाही हो सकती है।

विशेषज्ञ साफ कहते हैं कि दून जोन-4 में है। इसमें 6.0, 7.0, 8.0 या इससे अधिक के भूकंप की आशंका रहेगी। इस जोन में निर्माण भारतीय मानक ब्यूरो यानी बीआईएस कोडिंग के मुताबिक होना चाहिए।

कई नए प्रतिष्ठित भवन निर्माता इन कोड का पालन कर रहे हैं, लेकिन 80 फीसदी से अधिक इसकी अनदेखी कर रहे हैं। भूकंपरोधी तकनीक तक का इस्तेमाल निर्माण में नहीं किया जा रहा। ऐसे में आफत कभी भी दस्तक दे सकती है।

वाडिया हिमालयन भू-विज्ञान संस्थान के वरिष्ठ भूकंप विशेषज्ञ डॉ. सुशील कुमार के मुताबिक इस जोन में भू-संरचना के आधार पर भूकंप के प्रति संवेदनशील क्षेत्रों में निर्माण मानकों के अनुसार होना चाहिए।

इस संस्थान और आईआईटी के विज्ञानियों की कुछ साल पहले की एक रिपोर्ट में देहरादून शहर का भूकंपीय दृष्टि से विश्लेषण किया गया था। रिपोर्ट में मिट्टी की संरचना के आधार पर शहर के कुछ इलाकों को भूकंप की दृष्टि से संवेदनशील बताया गया था।

मसलन, राजपुर, मालसी आदि क्षेत्र। लेकिन राजपुर रोड, सहस्त्रधारा रोड जैसे संवेदनशील इलाकों में इस वक्त अपार्टमेंट निर्माण की होड़ है। कई तो अवैध रूप से भी गतिविधियों को अंजाम दे रहे हैं। ऐसे में बड़ी तीव्रता वाला भूकंप बडे़ नुकसान का सबब बन सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here