पाकिस्तान की सैन्य कार्रवाई में साढ़े तीन लाख बेघर

0
93

करीब साढ़े तीन लाख लोगों ने छोड़ा घर पाकिस्तान के उत्तरी वज़ीरिस्तान इलाक़े में पिछले सप्ताह चरमपंथियों के खिलाफ शुरू हुई सेना की कार्रवाई के बाद से अब तक क़रीब साढ़े तीन लाख लोग विस्थापित हो चुके हैं। अधिकारियों ने बताया कि भीषण गर्मी के बावजूद क़रीब के क़स्बे बानू में प्रवेश करने के लिए सुरक्षा चौकियों पर बड़ी संख्या में लोगों के इंतज़ार करने की ख़बर है। वहां बसों और लॉरी की लंबी-लंबी क़तारें देखी जा रही हैं। विस्थापितों के बीच पोलियो फैलने का ख़तरा भी जताया जा रहा है क्योंकि ज्यादातर विस्थापित बच्चों को पोलियो की ख़ुराक़ नहीं मिली है। ताज़ा सैन्य कार्रवाई कराची हवाई अड्डे पर आत्मघाती हमले के बाद शुरू हुई। इन हमलों की ज़िम्मेदारी उज्बेक चरमपंथी समूह और पाकिस्तानी तालिबान ने ली थी।

लोगों को नहीं मिल पा रहीं बुनियादी सुविधाएं

इन क़बीलाई इलाक़ों में विस्थापित लोगों में दसियों हज़ार बच्चे शामिल हैं। जिनमें से ज्यादातर बच्चों को पोलियो जैसी अत्यधिक संक्रामक बीमारी के टीके कभी नहीं मिले हैं, क्योंकि तालिबान ने इन पर प्रतिबंध लगा रखा है।

स्थानीय अधिकारियों का कहना है कि वो इस मानवीय संकट से निपटने के लिए हरसंभव क़दम उठा रहे हैं। बानू के पास विस्थापित लोगों के लिए एक शिविर लगाया गया है।

बीबीसी के शाहजेब जिलानी ने इस्लामाबाद से बताया कि ज्यादातर परिवारों ने ये कहते हुए वहां जाने से इनकार कर दिया है कि वहां पानी, खाना और सफ़ाई जैसी बुनियादी सुविधाओं का अभाव है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here