फेरों के लिए लंबा फेर

7
395

ज्ञानसू में बाढ़ सुरक्षा कार्य शुरू करवाने के लिए मनेरी भाली परियोजना के गेट खोलने का खामियाजा अठाली के ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। गांव में मंगलवार को विवाह समारोह होना है, लेकिन नदी का जलस्तर बढ़ने से ग्रामीणों की आवाजाही को बना अस्थाई पुल भी बह गया। ऐसे में गांव से बारात का निकलना बड़ी चुनौती बन गया है। पुल न होने से बरातियों को टॉली या फिर तीस किमी. दूरी तय कर देवीधार -धनारी होते मंजिल तक पहुंचना पड़ेगा।
अठाली गांव निवासी महावीर सिंह के विवाह की तिथि मंगलवार को तय है। सोमवार को विवाह का सारा सामान भी देहरादून से गांव पहुंच गया, लेकिन ऐन वक्त पर मनेरी भाली परियोजना द्वितीय चरण का गेट खोल दिया। भागीरथी नदी का जलस्तर बढ़ने से अठाली गांव में आवाजाही के लिए नदी पर बनाया गया अस्थाई पुल भी बह गया। लिहाजा सारा सामान सड़क पर ही रह गया। कुछ सामान तो आवाजाही के लगी ट्रॉली पर भेज दिया गया, लेकिन बड़े सामान को युवाओं ने जोखिम उठाते हुए नदी में उतर कर दूसरी ओर पहुंचाया, हालांकि सामान पहुंचाने के बाद भी महावीर सिंह और उसके परिवार की चिंता कम नहीं हुई है। जल विद्युत निगम ने परियोजना में फ्लशिंग अनिश्चितकालीन के लिए शुरू कर दी है। लिहाजा अब महावीर के परिवार को शादी में आने वाले मेहमानों की भी चिंता सताने लगी है। अस्थाई पुल बहने के बाद लोगों का गांव तक पहुंचना बेहद मुश्किल है। पुल बहने के बाद ग्रामीणों के लिए शादी का आयोजन करना बड़ी मशक्कत का काम बन गया है। ग्रामीण आने वाले समय को लेकर भी चिंतित ही है। अप्रैल महीने में गांव में पांच विवाह समारोह होने है।
‘गांव में दो पुलों का निर्माण हो रहा है, ज्ञानसू में बाढ़ सुरक्षा कार्यो के चलते फ्लशिंग करनी पड़ी है, ट्रॉली से आवाजाही हो रही है और सुरक्षा का विशेष ध्यान रखा जा रहा है।
श्रीधर बाबू अद्दांकी, जिलाधिकारी उत्तारकाशी।

7 COMMENTS

  1. Can i purchase isotretinoin 10mg website cheap How Much Does Generic Tadalafil Cost Levitra Duration Of Effect viagra Cialis Lilly Bestellen Zithromax Good For Strep Throat

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here