मंदिर निर्माण में सात को जेल पर गुस्से में ग्रामीण

0
149

28_03_2015-27rmnp03-c-2रामनगर : कॉर्बेट पार्क में मंदिर निर्माण को लेकर जेल गए सात लोगों के मामले में ग्रामीणों में सीटीआर के खिलाफ गुस्सा है। ग्रामीणों ने गाव में बैठक कर सीटीआर के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किया। उन्होंने सीटीआर पर उन्हे जानबूझकर फंसाने का आरोप लगाया।
सावल्दे में हुई बैठक में ग्रामीणों ने कहा कि गाव स्थित मंदिर में उन्हे पूजा अर्चना करने के आरोप में सीटीआर अधिकारियों ने पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर फंसाया है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण सीटीआर की हर तरीके से मदद करते है। लेकिन अधिकारियों में ग्रामीणों के प्रति हर समय असहयोग की भावना रही।
ग्रामीणों ने संकल्प लिया कि भविष्य में वे सीटीआर अधिकारियों व कर्मचारियों को किसी भी तरह का सहयोग नहीं करेगे। वक्ताओं का कहना था कि सीटीआर का नकारात्मक रुख मानव वन्य जीव संघर्ष को न्यौता देने वाला है। इससे ग्रामीणों व सीटीआर के बीच टकराव बढ़ेगा। नंदा बल्लभ बेलवाल के संचालन में चली सभा को पुष्कर दुर्गापाल, मनमोहन बिष्ट, सुरेश घुघत्याल, राकेश नैनवाल, बसंती आर्य, प्रकाश बेलीवाल, दिनेश लोहनी, ललित उप्रेती, मुनीष अग्रवाल, चंद्रशेखर जोशी आदि ने संबोधित किया। उधर, ईको सेंसिटिव जोन संघर्ष समिति ने भी सात ग्रामीणों के जेल जाने पर सीटीआर के खिलाफ अपना विरोध जताया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here