मोदी के लिए तैयार है लाल किला, हाईटेक सुरक्षा के बीच होगा पहला भाषण

0
258

4008_1नई दिल्ली. मोदी के लिए पहली बार लाल किला तैयार है। 68वें स्वतंत्रता दिवस के मौके को खास बनाने के लिए जितनी तैयारी मोदी ने की होगी। उससे अधिक तैयारी लाल किले को भी खास बनाने के लिए की गई है। मोदी पहली बार प्रधानमंत्री के तौर पर अपना भाषण देंगे।उनकी सुरक्षा के लिए हाईटेक इंतजाम किए गए हैं। खुफिया एजेंसियों ने स्वतंत्रता दिवस पर पहले ही हाई अलर्ट जारी कर रखा है। ऐसे में सुरक्षा इंतजामों पर खुद पीएमओ नजर रख रहा है। बुधवार को लाल किले पर स्वतंत्रता दिवस की फुल ड्रेस रिहर्सल की गई। हाईटेक सुरक्षा का जायजा लिया गया। रिहर्सल के दौरान स्टूडेंट्स ने तिरंगे के तीनों रंगों में 68 बनाया।

लालकिले पर भीड़ जुटाने को युद्ध स्तर पर प्रयास

स्वतंत्रता दिवस पर लालकिला में होने वाले कार्यक्रमों को लेकर पहली बार हर दिल्लीवासी को वहां पहुंचने का न्यौता दिया जा रहा है। डीटीसी बस और मेट्रो में फ्री सवारी के साथ रिफ्रेशमेंट भी लोगों को दिया जाएगा। ऐसा आमंत्रण कालोनियों की आरडब्ल्यू के साथ-साथ पार्कों में लगने वाली जनसंघ की शाखाओं के अलावा भाजपा जनप्रतिनिधियों की ओर से दिया जा रहा है। लोग भी बड़ी संख्या में लालकिला पहुंचने के लिए लालायित हैं।

बुधवार सुबह दिल्ली के पार्कों में लगने वाली राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की शाखाओं में रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन और पार्कों में घूमने वाले लोगों को यह संदेश दिया गया कि आप सुबह यहां एकत्रित हो जाइएगा, डीटीसी की सुबह 6 बजे यहां से बसें चलेंगी और आपको फ्री में लालकिला पहुंचाएंगी। वहां आयोजित होने वाले स्वतंत्रता दिवस समारोह में आप बिना टिकट के बैठ सकेंगे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण को सुनने के साथ ही स्कूली बच्चों द्वारा प्रस्तुत किए जाने वाले रंगारंग कार्यक्रमों को देख सकेंगे।

स्वतंत्रता दिवस पर पहली बार राजधानी में जश्न-ए-आजादी कार्यक्रमों का सप्ताह भर आयोजन और लालकिले पर भीड़ जुटाने के लिए की जा रही व्यवस्था अभूतपूर्व है। इसके पीछे मकसद यह है कि इसके जरिये लोगों में देशभक्ति की भावना जागेगी और वह आजादी के राष्ट्रीय पर्व से अपने को कटा हुआ नहीं बल्कि जुड़ा हुआ महसूस करेंगे। क्योंकि अभी तक लालकिले के कार्यक्रम वीआईपी कतार के लिए ही होते थे। पहली बार 10 हजार लोगों के लिए यहां सीटें लगाई गई हैं।

रिहर्सल परेड से हुआ ट्रैफिक जाम

स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में बुधवार सुबह हुई रिहर्सल परेड से राजधानी वासियों को ट्रैफिक जाम से जूझना पड़ा। हालांकि यातायात पुलिस की ओर से ट्रैफिक एडवाइजरी जारी की गई थी। लेकिन सुबह घर से दफ्तर के लिए निकले लोगों को घंटों ट्रैफिक जाम की समस्या से जूझना पड़ा। यह जाम रिंग रोड, विकास मार्ग, राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-24, बहादुर शाह जफर मार्ग, दरियागंज, दीन दयाल उपाध्याय मार्ग भैरों मार्ग, जवाहरलाल नेहरू मार्ग, रंजित सिंह फ्लाई ओवर आदि मार्गों पर यातायात की गति सुबह साढ़े नौ बजे तक थमी हुई थी। दिल्ली पुलिस की ओर से दिल्ली के सभी बॉर्डर पर कड़ी सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं। ऐसे में वाहनों की जांच के चलते भी बॉर्डर पर वाहनों की लंबी कतार लगी रही।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बुधवार सुबह पांच बजे से ही नेताजी सुभाष से दिल्ली गेट और छत्ता रेल, लुटियन रोड से गोल डाकखाना, श्याम प्रसाद मुखर्जी मार्ग से एचसी सेन मार्ग और यमुना बाजार चौक, चांदनी चौक फव्वारे से लाल किला चौक, न्यू दरियागंज रोड से रिंगरोड वाया नेताजी सुभाष मार्ग और लिंक रोड होते हुए नेताजी सुभाष मार्ग पर आने वाले वाहनों पर सुबह नौ बजे तक पूरी तरह पाबंदी लगाई गई थी। इन मार्गों पर आने वाले यातायात को अन्य मार्गों पर डाइवर्ट किया गया। वाहन चालकों के लिए वैकल्पिक रूट मार्ग भी बनाए गए थे, जहां से होकर यातायात को गुजारा गया। लेकिन सुबह आठ बजे से लोग दफ्तर के लिए घर से निकले तो ऐसे में यातायात का दबाव बढ़ गया और यातायात जाम की स्थिति पैदा हो गई। हालांकि दस बजे तक रोजमर्रा की तरह यातायात व्यवस्था को दुरुस्त कर दिया गया था। क्योंकि रिहर्सल 9 बजे पूरा हो गया और उसके बाद सभी मार्गों को यातायात के लिए खोल दिया गया था। यह व्यवस्था शुक्रवार को भी रहेगी। इस दौरान केवल वही वाहन प्रतिबंधित मार्गों से होकर गुजर सकेंगे, जिन पर वीआईपी स्टीकर लगा होगा।

स्वतंत्रता दिवस पर बसों में बजेगा देशभक्ति संगीत

दिल्ली परिवहन निगम पहली बार इस स्वतंत्रता दिवस पर अपने 3,800 वातानुकूलित और गैर-वातानुकूलित लो-फ्लोर बसों में देशभक्ति संगीत बजाएगा। डीटीसी के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा,‘स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए हमने 3,800 लाल और हरी बसों में पहले से लगे पैसेंजर एड्रेस प्रणाली के जरिए 15 अगस्त को देशभक्ति गाने बजाने का फैसला किया है। यह गाने उस दिन सुबह से मध्यरात्रि तक बजाए जाएंगे। डीटीसी पहली बार ऐसा कुछ कर रही है।’ उन्होंने कहा कि डीटीसी बसों में बजाने के लिए ‘ऐ वतन, ऐ वतन, तुमको मेरी कसम’, ‘ये देश है वीर जवानों’,‘जहां डाल डाल पे सोने की चिड़िया’, ‘मेरा रंग दे बसंती चोला’,‘है प्रीत यहां की रीत सदा’आदि गीत चुने गए हैं। अधिकारी ने बताया,‘सभी डिपो प्रबंधकों को निर्देश दे दिया गया है कि वह इन सभी गीतों को पैसेंजर एड्रेस प्रणाली में अपलोड कर दें ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here