मसूरी में डेढ़ दशक बाद शुरू हो रहा सिनेमा हॉल!

0
227

मसूरी में में करीब छह सिनेमा हॉल अंग्रेजों ने खोले थे, लेकिन उत्तराखंड राज्य बन जाने के बाद से शहर में सिनेमा का स्वर्णिम काल समाप्त हो गया था। आज वह दिन आया है जब मसूरी में दर्शक एक बार फिर से सिनेमा हाल में फिल्म देख सकेंगे। रिट्ज सिनेमा गुरुवार से शुरू हो रहा है। इतिहासकार जयप्रकाश उत्तराखंडी कहते हैं कि उत्तर भारत का सर्वप्रथम थियेटर मसूरी के लंडौर छावनी में 1860 में स्थापित हुआ था। 1915 से लेकर 1942 तक अंग्रजों ने पिक्चर पैलेस, रिंक सिनेमा, मैजेस्टिक सिनेमा, रियाल्टो सिनेमा हॉल और रॉक्सी सिनेमा हॉल स्थापित कर दिए थे, लेकिन राज्य बनने के बाद से शहर के सभी सिनेमा हॉल बंद हो गए।  लंबे समय के बाद मसूरी शहर में एक बार फिर से सिनेमा हॉल के खुलने से स्थानीय लोगों के साथ ही उत्तराखंडी फिल्मों से जुड़े लोगो में उत्साह है। फिल्म निर्माता प्रदीप भंडारी कहते हैं कि मसूरी शहर में सिनेमा हॉल खुलने से उत्तराखंडी फिल्मों के प्रचार-प्रसार के लिए उपयुक्त स्थान मिल जाएगा। शहर में सिनेमा खुलना बड़ी खुशी की बात है। सिनेमा हॉल के संचालक रजत अग्रवाल और संदीप साहनी का कहना है कि नया सिनेमा हॉल रिट्ज को आधुनिक तकनीकी से बनाया गया है। साउंड, पिक्चर क्लालिटी, सीट व्यवस्था सब कुछ आधुनिक है। पहाड़ों की रानी में लंबे समय से मनोरंजन के कोई साधन नहीं होने से लोगों को सिनेमा देखने के लिए राजधानी जाना पड़ता था। साथ ही पर्यटकों के लिए भी कोई मनोरंजन के साधन नहीं थे। लेकिन करीब डेढ़ दशक के बाद एक बार फिर 14 जुलाई से सिनेमा का स्वर्णिम युग शुरु होने जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here