बेटे का इलाज कराने सरकारी अस्पताल पहुंचीं डीएम की पत्नी, तो सामने आया हैरान करने वाला सच

0
98

नैनीताल डीएम सविन बंसल की पत्नी रुतबे को दरकिनार कर  शुक्रवार को बेटे के उपचार के लिए बीडी पांडे जिला अस्पताल पहुंची तो सरकारी स्वास्थ्य सुविधाओं का सच देख दंग रह गईं। पर्चा बनवाने के लिए ही पहले तो उन्हें आधा घंटा लाइन में लगना पड़ा और फिर डॉक्टर के लिए इंतजार। डॉक्टर आए तो अपने कक्ष में बच्चे के साथ बैठी महिला को देख बिगड़ गए। डीएम से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि व्यवस्था सुधारने के लिए कड़े कदम उठाए जाएंगे। लापरवाह डॉक्टरों पर कार्रवाई की जाएगी। जिलाधिकारी सविन बंसल ने शुक्रवार को चोरगलिया का दौरा कर वहां की व्यवस्थाएं देखीं तो उनके पीछे उनकी पत्नी सुरभि बंसल बेटे सनव को दिखाने बीडी पांडे जिला अस्पताल पहुंचीं। अपना परिचय देतीं तो पूरा अमला उनके पीछे लग जाता लेकिन वह सामान्य जन की तरह पर्चा बनाने के लिए लाइन में लगीं। आधे घंटे में पर्चा बन पाया। उन्होंने बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. एमएस रावत को बच्चे को दिखाया। डॉ. रावत को दिखाने के बाद सुरभि बंसल दूसरे विशेषज्ञ चिकित्सक के पास गईं तो वह अपने कक्ष में नहीं थे। वह डॉक्टर के कक्ष में बैठकर इंतजार करने लगीं। कुछ देर बाद डॉक्टर पहुंचे तो कमरे में महिला को बच्चे सहित बैठा देख बिगड़ गए और कहा कि जब डॉक्टर कक्ष में नहीं होते तो बाहर बैठकर इंतजार करना चाहिए। इसके अलावा डीएम की पत्नी को कई अन्य अव्यवस्थाओं से भी दो चार होना पड़ा। वापसी में जब उन्हें लेने सरकारी गाड़ी पहुंची तो अस्पताल प्रशासन को हकीकत का पता चला, जिससे खलबली मच गई। डीएम सविन बंसल ने बताया कि उनके बेटे का यह रूटीन चेकअप था, जिससे सीधे तौर पर अस्पताल की व्यवस्थाओं का भी जायजा लिया जा सका। अस्पताल में मरीजों को लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। डॉक्टरों के नदारद होने की शिकायत भी मिल रही है। व्यवस्थाएं सुधारने के लिए कड़े कदम उठाए जाएंगे और लापरवाही बरतने वाले डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। डीएम ने कहा कि डॉक्टरों को काउंसलिंग की भी जरूरत है कि किस तरह आमजन से व्यवहार किया जाए। इसके लिए समय समय पर काउंसलिंग की भी व्यवस्था की जाएगी।