किसान ने घराट से पैदा की बिजली, चलाई आटा चक्की!

0
673

उत्तराखंड को कभी आयुष प्रदेश कभी पर्यटन प्रदेश तो कभी राजनेताओं ने उर्जा प्रदेश बनाने का नारा देकर राजनीतिक रोटियां सेकी हैं। लेकिन हकीकत में कभी ये नारा धरातल पर नही उतरा है। इसके बावजूद मसूरी के एक किसान ने खुद के संसाधन से बिजली पैदा कर सरकारी नारे को आईना दिखाने का काम किया है।

मसूरी के क्यारकुली गांव के किसान गज्जे सिंह रावत ने अपने गांव में एक इलेक्ट्रो मैकेनिकल घराट स्थापित किया है। इस घराट से गज्जे सिंह ने पांच किलो वाट की बिजली पैदा की। साथ ही आटा पिसाई का काम भी शुरू किया। जिससे गज्जे सिंह आज सरकारी बिजली की खरीद कम और खुद के संसाधनों से पैदा की गई बिजली का इस्तेमाल कर रहा है।

क्यारकुली गांव निवासी राकेश रावत के अनुसार जिस स्थान पर बिजली पहुंचाना मुश्किल था, वहीं पर गज्जे सिंह रावत ने अपनी खुद की बिजली पैदा कर एक मिसाल पेश की है। लोगों का कहना है कि बड़े बांधों को बनाने के बजाय छोटे छोटे इस तरह के प्रोजेक्ट बनाये जाय तो उर्जा प्रदेश बनने का सपना साकार हो सकता है।

गज्जे सिंह रावत ने कहा कि उनको उरेड़ा विभाग ने भी सहयोग किया है। उन्होंने कहा कि गाड गदेरों का पानी एकत्र कर पांच किलो वाट बिजली पैदा की है। इस तरह गज्जे सिंह रावत ने अपने घर सहित अपने पुरे क्षेत्र को रोशन करने का काम किया है। साथ इन्होंने लोगों को इस तरफ प्रेरित करने का काम भी किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here