भारत-अमेरिका ने संबंधों को और मजबूत किया: ओबामा 

0
171

obamaअमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भारत और अमेरिका को ‘‘स्वाभाविक साझीदार’’ बताते हुए कहा है कि दोनों देशों ने अपने संबंधों को और मजबूत बनाया तथा एक नई साझीदारी के लिए एक दूसरे के प्रति प्रतिबद्धता जताई है। ओबामा ने यहां संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ एक घंटे से अधिक समय तक चली मुलाकात के बाद कहा, ”हमने अपने संबंधों को और मजबूत बनाया है। हमने हमारे देशों के बीच एक नई साझीदारी के लिए एक दूसरे के प्रति प्रतिबद्धता जताई है।’’

उन्होंने कहा कि विभिन्न मुद्दों पर उत्कृष्ट तरीके से आगे बढ़ा जा रहा है और उनका पालन किया जा रहा है। इस बीच विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा कि यह बैठक ‘‘अत्यंत सकारात्मक एवं मित्रवत’’ माहौल में आयोजित की गई। उन्होंने कहा, ‘‘दोनों पक्षों ने यह बात स्वीकार की कि पूर्ववर्ती बैठकों में लिए गए निर्णयों को लागू करने की दिशा में काफी प्रगति हुई है और द्विपक्षीय संबंधों में पर्याप्त प्रगति हुई है।’’

प्रवक्ता ने कहा, ”दोनों पक्षों खासकर राष्ट्रपति ओबामा ने कहा कि भारत और अमेरिका स्वाभाविक साझीदार हैं। लोकतंत्र एवं तकनीक ने दोनों देशों के बीच पहले से ही काफी सक्रिय दोस्ती को बहुत मजबूत आधार मुहैया कराया है।’’ उन्होंने कहा, ”जिस तरह दोनों नेताओं ने एक दूसरे को गले लगाया, उससे आप दोनों के बीच निजी तालमेल देख सकते हैं।’’ बैठक में मौजूद लोगों ने बताया कि ओबामा मेज के दूसरी ओर मौजूद मोदी के पास गए और उन्हें गर्मजोशी से गले लगाया। उन्होंने मोदी और कभी कभी नरेंद्र कह कर भारत के प्रधानमंत्री को अनौपचारिक रूप से संबोधित किया। मोदी ने ओबामा के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा, ”मैं हमारी मित्रता और हमारे देशों के बीच संबंधों के लिए प्रतिबद्धता को बहुत महत्व देता हूं। हमने हमारे द्विपक्षीय सहयोग और अंतरराष्ट्रीय साझीदारी की दिशा में काफी प्रगति की है।’’

दोनों नेताओं ने इससे पहले नयी दिल्ली, वाशिंगटन, म्यांमा और ब्रिसबेन में मुलाकात की थी। इस बैठक में सामरिक एवं वाणिज्यिक संवाद का भी जिक्र हुआ। इस संबंध में जनवरी में ओबामा की नयी दिल्ली की यात्रा के दौरान निर्णय लिया गया था। मोदी ने कहा कि यह बैठक और अमेरिका में उनकी अन्य व्यस्तताएं दोनों देशों के संबंधों की असाधारण गहराई और विविधता की परिचायक हैं। उन्होंने कहा, ”हमारी आज की बैठक हमारी कुछ तात्कालिक प्राथमिकताओं और वृहद सामरिक साझीदारी को और व्यापक बनाने के संदर्भ में बहुत फलदायी रही।’’

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here