अब नदी,नालों और गदेरों पर मलबा डालने पर लगेगा दस हजार का जुर्माना!

0
193

श्रीनगर गढ़वाल में नदी, नालों और गदेरों के मुहानों पर लोगों द्वारा डाले जा रहे मलबे के खिलाफ नगरपालिका प्रशासन ने सख्त रुख अख्तियार कर लिया है। ऐसा करने वालों के लिए अब ये आसान नहीं होगा। नगरपालिका प्रशासन ने सड़कों, नालों और गदेरों पर मिट्टी मलबा डालकर उनके मुहानों को बंद करने के दोषी पाए जाने पर दस हजार रूपये जुर्माने का प्रावधान किया है।  गौरतलब है कि भवन निर्माणकर्ता और अतिक्रमणकारियों द्वारा भवनों की खुदाई का मलबा नदी, नालों और गदेरों पर ना केवल रात के अंधेरे में बल्कि दिन की रोशनी में भी डाला जा रहा है जिससे बरसात में कभी भी ये आवासीय क्षेत्रों में आफत बरपा सकता है। अब तक शहर में कई स्थानों पर अंग्रेजों के जमाने के स्क्रबर्स और नालों पर अतिक्रमणकारियों या तो अवैध कब्जा कर निर्माण कर दिया गया है या फिर लगातार इसकी कोशिशें जारी हैं। खास बात यह है कि आज भी सिलसिला बदस्तूर जारी है जिससे गदेरों और नालों के साथ स्क्रबर्स को बंद करने से बरसाती पानी का रास्ता बदलने से आवासीय क्षेत्रों में बरसाती मलबा घुस रहा है।अतिक्रमणकारी और भवन निर्माण सामग्री का मलबा गदेरों और नालों में डालकर उसे अवरूद्ध कर रहे लोगों पर ना तो लोक निर्माण विभाग कार्यवाही करता है और न ही नगरपालिका प्रशासन या स्थानीय प्रशासन ही कोई कार्रवाई करता है। हालांकि ये बात भी सही है कि कई बार लोग ऐसे तत्वों को देखते हुए भी इसलिए नजरअंदाज कर देते हैं कि वो खुद भी या तो सम्बन्ध नही बिगाड़ना नहीं चाहते या फिर पूछताछ व किसी कानूनी पचड़े के चक्कर में सम्बन्धित विभागों अथवा पुलिस प्रशासन को जानकारी नहीं देते। कई बार भवन निर्माणकर्ता और अतिक्रमणकारी रात के अंधेरे में भी चुपचाप अपना काम कर जाते हैं। नगरपालिका अध्यक्ष विपिन मैठाणी का कहना है कि पालिका प्रशासन ने ऐसे तत्वों से निपटने के लिए गजट नोटिफिकेशन के माध्यम से सख्त जुर्माने का प्रावधान किया है। उनका कहना है कि यदि गदेरों, नालों पर और सड़क किनारे मलबा डालते हुए कोई पकड़ा जाता है तो उस पर 10,000 रुपए का जुर्माना किया जाएगा। उन्होंने जनता से भी अपील की है ऐसे लोगों की सूचना पालिका को दें जिससे ऐसे कृत्य करने वालों पर प्रभावी कार्रवाई हो सके। उन्होंने कहा कि कई बार ऐसे लोग अंधेरे में ऐसा काम करते हैं जिससे दोषी पकड़ में नहीं आ पाते, लेकिन यदि ऐसा करते समय कोई फोटो खींचकर भी उपलब्ध करा दे तो पालिका उनपर विधिक कार्यवाही करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here