6.3 C
New York
Monday, April 22, 2024
spot_img

हल्द्वानी हिंसा के दिन मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक हल्द्वानी में नहीं था

7/8 फरवरी को मलिक ने दिल्ली व नोएडा में कई नेताओं से मुलाकात की थी.पुंज ने हां मुझसे मिला था मलिक

देखें पत्र- हल्द्वानी हिंसा मामले में आया नया मोड़,मलिक ने डीजीपी को भेजा पत्र

पहले हम लेटर की सत्यता की पुष्टि करेंगे और फिर इसमें दिए गए तथ्यों की जांच करेंगे-डीजीपी अभिनव कुमार

 

देहरादून। हल्द्वानी हिंसा के बाद 16 दिन तक अंडरग्राउंड रहने के बाद गिरफ्तार हुए अब्दुल मलिक ने नया खुलासा किया है। मलिक का कहना है कि वो 7 व 8 फरवरी को हल्द्वानी में नही थे। इस बाबत1डीजीपी को तथ्यों के साथ एक पत्र भी सिया है।

इस मामले में उत्तराखंड के डीजीपी अभिनव कुमार ने कहा, ‘यह पत्र मेरे संज्ञान में लाया गया है।

हमने इसका संज्ञान लिया है और जिले में इस निर्देश के साथ भेजा है कि जो भी दावा किया जा रहा है उसकी ठीक से जांच की जानी चाहिए। यदि आरोपी अपने पक्ष में कोई आवेदन दे रहा है तो उसकी जांच करना हमारा कर्तव्य है। पहले हम लेटर की सत्यता की पुष्टि करेंगे और फिर इसमें दिए गए तथ्यों की जांच करेंगे।’

हल्द्वानी हिंसा के बाद 16 दिन तक अंडरग्राउंड रहने के बाद गिरफ्तार  अब्दुल मलिक के दावे के बाद हलचल तेज हो गयी है।  वनभूलपुरा में 8 फरवरी को हुई हिंसा में पुलिस की ओर से मास्टरमाइंड बताए जा रहे अब्दुल मलिक का कहना है कि वह उस दिन हल्द्वानी में मौजूद ही नहीं था।

मलिक की ओर से एक लेटर उत्तराखंड के डीजीपी को दिया गया है। इसकी कॉपी नैनीताल की डीएम और एसएसपी को भी दी गई है। मलिक का दावा है कि 7 और 8 फरवरी को वह नोएडा और दिल्ली में मौजूद था और इस दौरान उसने कई नेताओं से भी मुलाकात की थी।

एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक मलिक के एक प्रतिनिधि ने अधिकारियों को जाकर लेटर सौंपा है, जिसमें 7-8 तारीख का ब्योरा दिया गया है कि मलिक कब कहां था और किससे मुलाकात की। लेटर में कहा गया है कि 7 फरवरी को मलिक और उसका ड्राइवर करीब तीन घंटे तक नोएडा के एक फाइव स्टार होटल के रेस्टोरेंट में था।

बिजनेस मीटिंग के सिलसिले में होटल पहुंचने का दावा किया गया है। इसके बाद शाम करीब 5 बजे अपने वकील सुधीर तिवारी से मुलाकात की। इसके बाद तिवारी और मलिक सेक्टर 31 में सुप्रीम कोर्ट के एक वकील के घर पहुंचे और करीब एक घंटे रहे। दावे के मुताबिक मलिक और उसका ड्राइवर रेस्टोरेंट में खाना खाने के बाद रात को दिल्ली के एक होटल में ठहरे।

लेटर में कहा गया है कि अगले दिन 8 फरवरी को करीब 12:30 बजे मलिक तिवारी के साथ नोएडा में भाजपा के पूर्व राज्यसभा सांसद बलबीर पुंज से मिलने पहुंचे। तिवारी की बेटी की शादी का कार्ड देने भाजपा नेता के पास पहुंचे थे। पुंज ने अयोध्या पर लिखी अपनी एक किताब भी दी।

हल्द्वानी हिंसा के मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक का डीजीपी को लिखा पत्र

दावा है कि तिवारी और मलिक इसके बाद कांग्रेस के पूर्व सांसद से नई दिल्ली में मिले। लेटर में यह भी दावा किया गया है कि करीब 3 बजे वे एक पूर्व केंद्रीय मंत्री के घर गए। इसके बाद तिवारी और मलिक ने नोएडा के रेडिशन होटल में रात का खाना खाया। मलिक तिवारी को लेकर ग्रेटर नोएडा गया।

वहां आधे घंटा रहा और फिर फरीदाबाद में बेटी के आवास चला गया, जहां रातभर रहा। इस अंग्रेजी अखबार का कहना है कि बीजेपी नेता बलबीर पुंज ने फोन पर बातचीत में इस बात की पुष्टि की कि मलिक और उसका बेटा तिवारी के साथ 8 फरवरी को नोएडा में उनके आवास पर आए थे। वे करीब 12:15 पर आए थे और करीब 45 मिनट रहे। हालांकि, उन्होंने यह भी जोड़ा कि उनके पास आने से पहले और बाद में वे कहां गए यह जानकारी उन्हें नहीं है।

मलिक के इस खुलासे के बाद पुलिस के सामने सबसे अहम जांच का मुद्दा यह सामने आ गया है कि हल्द्वानी हिंसा मे मलिक के जुड़ाव को कैसे सिद्ग किया जाय।

(साभार-एजेंसी)

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles