6.3 C
New York
Thursday, February 22, 2024
spot_img

प्रधानमंत्री मोदी ने बचाव प्रयासों पर सीएम धामी से बात की, कहा – श्रमिकों का मनोबल बनाए रखने की जरूरत

सीएम धामी ने फोन पर पीएम को बचाव अभियान की जानकारी दी

नवयुग इंजीनियरिंग कम्पनी व कार्यदायी संस्था के खिलाफ परिजन भड़के,आठ दिन से फंसे हैं 41 मजदूर

विदेशी एक्सपर्ट की सहायता से बचाव अभियान आगे बढ़ेगा

देहरादून। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से फोन कर उत्तरकाशी के सिल्क्यारा के पास टनल में फँसे श्रमिकों को सुरक्षित निकालने के लिए जारी राहत और बचाव कार्यों के बारे में जानकारी ली। प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा आवश्यक बचाव उपकरण व संसाधन उपलब्ध कराए जा रहे हैं। केंद्र और राज्य की एजेंसियों के परस्पर समन्वय से श्रमिकों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया जाएगा। फंसे श्रमिकों का मनोबल बनाए रखने की जरूरत है।

मुख्यमंत्री ने ताजा स्थिति की जानकारी देते हुए बताया कि राज्य और केंद्रीय एजेंसियां परस्पर समन्वय और तत्परता के साथ राहत और बचाव कार्य में जुटी हैं। टनल में फंसे श्रमिक सुरक्षित हैं और ऑक्सीजन, पौष्टिक भोजन और पानी उपलब्ध करवाया जा रहा है। राहत और बचाव कार्यों के लिए एक्सपर्ट्स की राय लेकर एजेंसियां काम कर रही हैं।

मुख्यमंत्री ने बताया कि उन्होंने स्वयं मौके पर जाकर स्थलीय निरीक्षण किया और बचाव कार्यों पर लगातार नजर रखें हैं। मेडिकल की टीम भी वहाँ पर तैनात कर दी गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सुरंग के अंदर फंसे सभी मजदूर सुरक्षित हैं और उन्हें जल्द बाहर निकलने की पूरी कोशिश की जा रही है। अब तक प्रधानमंत्री तीन बार मुख्यमंत्री से स्थिति की जानकारी ले चुके हैं। पीएमओ की टीम भी मौके का निरीक्षण कर चुकी और लगातार स्थिति पर नज़र बनाये हुए है और समन्वय का कार्य कर रही है।

गौरतलब है कि उत्तरकाशी की 4.5 किमी निर्माणाधीन सुरंग में दीवाली की सुबह 5.30 बजे मलबा आने से विभिन्न राज्यों के 41 मजदूर फंसे हुए हैं। इस बीच, नवयुग इंजीनियरिंग कम्पनी और कार्यदायी संस्था NHI DCL के खिलाफ मजदूरों के परिजन आक्रोश जता चुके हैं। कम्पनी के कार्यालय के बाहर परिजन लगातार वस्तुस्थिति जानने का प्रयास कर रहे हैं। अभी तक हुए बचाव कार्य में कोई सफलता नहीं मिली है। केंद्रीय मंत्री गड़करी, वीके सिंघ, पूर्व पीएमओ सलाहकार भास्कर खुल्बे, उप सचिव मंगेश घिल्डियाल समेत कई एक्सपर्ट्स मौके का निरीक्षण कर विकल्प की तलाश में जुटे हैं।

इस बीच, सुरंग से मलबा हटाने में जुटी मशीन के खराब होने व पहाड़ों में कंपन होने से बचाव कार्य रोक देना पड़ा था।विदेशी एक्सपर्ट को भी बुलाया जा रहा है। और सुरंग के ऊपर से खुदाई कर मजदूरों को निकालने की दिशा में काम हो रहा है। छठ पूजा स्थल समेत कई अन्य स्थानों पर आठ दिन से सुरंग में फंसे मजदूरों की सकुशल वापसी के लिए हवन व दुआओं का दौर भी जारी है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles