Google के Project Soli को हरी झंडी, बिन छुए चलाए जा सकेंगे स्मार्ट डिवाइस

0
21

कीपैड के बाद आया टच स्क्रीन, लेकिन अब आगे क्या? गूगल एक ऐसी टेक्नॉलजी पर काम कर रही है जिससे स्मार्ट डिवाइस को बिना टच किए ही चला सकते हैं. हम यहां वॉयस कंट्रोल की बात नहीं कर रहे हैं, क्योंकि वॉयस कंट्रोल अभी भी है. गूगल Project Soli पर काम कर रहा है और अब इसे फेडरल अप्रूवल मिल गया है. इस रेडार प्रोजेक्ट पर गूगल 2015 से काम कर रही है.

इस प्रोजक्ट पर गूगल काफी समय से काम कर रही है. इसके तहत कंपनी का टार्गेट ये है कि बिना स्क्रीन को टच किए हुए चुटकी बजा कर डिवाइस को ऑपरेट किया जा सकेगा. जैसा आपने साइंस फिक्शन फिल्मों में देखा होगा बिना स्क्रीन टच किए काम किए जाते हैं. इसका बेहतरीन उदाहरण हॉलीवुड फिल्म आयरनमैन के गैजेट्स हैं.

इस टेक्नॉलजी के तहत आप स्पीकर के पास चुटकी बजा कर इसे स्टार्ट कर सकते हैं, म्यूजिक ऑन कर सकते हैं, इसे ऑफ कर सकते हैं या फिर स्मार्ट वॉच ऑपरेट कर सकते हैं. इसके लिए स्पीकर में रेडार सेंसर लगाया जाएगा.

कंपनी इसका शुरुआती प्रोटोटाइप भी लाई थी, लेकिन सफल नहीं हो पाया और हर तरह के मोशन डिटेक्ट करने में फेल हो गया. ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि इस टेक्नॉलजी को यूज करने में पेंच है. रेडार बेस्ड मोशन सेंसर को हाई लेवल पर यूज करने में फेसबुक को आपत्ति थी और उसका कहना था कि इससे मौजूदा टेक्नॉलजी प्रभावित होगी, इसलिए गूगल को तब अप्रूवल नहीं मिला. हालांकि बाद में दोनों कंपनियों ने मिलकर बातचीत की और रास्ता निकाला. गूगल कम पावर लेवल पर इसे यूज करने के लिए मान गई और इसके बदले में फेसबुक ने गूगल के लिए वेवर का विरोध नहीं किया.

अब गूगल फेडरल कम्यूनिकेशन कमिशन से रेडार बेस्ड मोशन सेंसर टेक्नॉलजी यूज करने की इजाजत मिल गई है जिसे गूगल Project Soli कहती है.

गूगल के मुताबिक इस सेंसर के जरिए यूजर अपने थंब और इंडेक्स फिंगर के बिच न दिखने वाले बटन प्रेस कर सकेंगे जिसे वर्चुअल डायल कहा जाएगा. चुटकी बचाने पर ये ऑन हो जाएगा. गूगल की वेबसाइट पर एक वीडियो है जिसमें ये दिखाया गया है. गूगल का कहना है कि यूजर स्मार्ट वॉच, म्यूजिक स्क्रॉल या फिर इसे यूज करते हुए वॉल्यूम ऐडजस्ट कर सकता है.

गूगल ने कहा है कि ये रेडार सिग्नल फैबरिक्स के अंदर भी जा सकता है इस वजह से अगर आपका हाथ जेब में है फिर भी इसे कंट्रोल कर सकेंगे. कंपनी ने ये भी कहा है, ‘हालांकि ये कंट्रोल वर्चुअल हैं, लेकिन इसके साथ इंटरऐक्शन फिजिकल की तरह ही लगेगा और वैसा ही रेस्पॉन्सिव भी होगा. आपको ठीक वैसे ही फील होगा जैसे हेप्टिक सेंसेशन से होता है.’

कुल मिला कर बात ये है कि ये टेक्नॉलजी टच स्क्रीन को रिप्लेस करने की क्षमता रखती है, लेकिन यह अभी शुरुआती दौर में है और इसमें अभी काफी समय लग सकता है.

उत्तराखंड में मौसम ने बदली करवट, चारधाम में हुई बर्फबारी; स्‍कूलों...

देहरादून। उत्तराखंड में मौसम का मिजाज एक बार फिर बदल गया है। चार धाम में रुक-रुककर बर्फबारी हो रही है, वहीं निचले स्थानों में बारिश...

Flipkart और Amazon सेलः स्मार्टफोन पर मिल रहे हैं ये बेहतरीन...

Flipkart और Amazon पर इस साल की पहली सेल आयोजित हो रही है। 2019 की शुरुआत में नया स्मार्टफोन खरीदने का यह बेहतरीन मौका...

HOUSE DESIGN

मान गया पाकिस्तान, BSF जवान को सौंपेगा आज

नई दिल्ली। नदी में बहकर पाकिस्तान पहुंच गए भारतीय बीएसएफ जवान को पाकिस्तान आज भारत को सौंपेगा। पाकिस्तानी रेंजर्स के डीजी ने इसकी पुष्टि...

[td_block_social_counter custom_title=”STAY CONNECTED” facebook=”tagDiv” twitter=”envato” youtube=”envato”]

- Advertisement -

MAKE IT MODERN

LATEST REVIEWS

प्रधानमंत्री मोदी ने वाजपेयी को जन्मदिन की शुभकामना दी 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को उनके 91वें जन्मदिन पर शुभकामना दी। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री की तारीफ करते हुए...

PERFORMANCE TRAINING

फूलों की घाटी में केदारनाथ आपदा के बाद टूट गयें पिछले सारे रिकाॅर्ड

केदारनाथ आपदा के बाद फूलों की घाटी में पहली बार पिछले सारे रिकाॅर्ड तोड़ दिए। पार्क अधिकारियों के मुताबिक वर्ष 2013 की आपदा के...

‘4 विलेन’ जो बढ़ा सकते हैं वर्ल्ड कप में आपकी मुश्किलें

क्रिकेट के महाकुंभ यानि वर्ल्ड कप शुरू होने में अब सिर्फ 11 दिन का वक्त शेष रह गया है। सिर्फ क्रिकेटर्स ही नहीं क्रिकेट...

हाईकोर्ट सुनाएगा आज फैसला, हरीश रावत पूर्व सीएम या वर्तमान!

क्या प्रदेश को राष्ट्रपति शासन से मुक्ति मिलेगी, क्या केन्द्र से पास बजट अध्यादेश पर रोक लगेगी। बजट अध्यादेश का तकनीकि पेंच और राष्ट्रपति...

प्रदेश में अस्पताल खुले लेकिन सुविधाएं नहीं

पौड़ी गढ़वाल।  प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्था का हल किसी से छुपा नहीं है। आलम यह है कि  लड़खड़ाती स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने के स्वास्थ्य...

गांवों के विकास के लिए रोडमैप बनाने की जरूरत: अनिल जोशी

देहरादून। उत्तराखंड में पलायन एक गंभीर समस्या के तौर पर उभर का सामने आ रही है, जिससे पर्वतीय क्षेत्रों के गांव लगातार खाली हो रहे...
- Advertisement -

HOLIDAY RECIPES

कई अमेरिकी नेताओं के मुकाबले US में मोदी के फेसबुक फैन्स...

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता भारत तक ही सीमित नहीं है, ये तो आप उनके अमेरिकी दौरे के दौरान समझ ही चुके...

WRC RACING

HEALTH & FITNESS

BUSINESS