Kumbh Mela 2019: ये हैं कुंभ के 14 अखाड़े, जानें क्या है महत्व

0
178

कुंभ का मेला विश्व के सबसे बड़े धार्मिक आयोजन में से एक है. लाखों की संख्या में लोग इस मेले में शामिल होते हैं. कुंभ का मेला हर 12 वर्षों के अंतराल होता है. लेकिन कुंभ का पर्व हर बार सिर्फ 4 पवित्र नदियों में से किसी एक नदी के तट पर ही आयोजित किया जाता है. जिनमें हरिद्वार में गंगा, उज्जैन की शिप्रा, नासिक की गोदावरी और इलाहाबाद में जहां गंगा, यमुना और सरस्वती का मिलन होता है.

क्या होते हैं अखाड़े?

कुंभ में अखाड़ों का विशेष महत्व होता है. अखाड़े शब्द की शुरुआत मुगलकाल के दौर से हुई. अखाड़ा साधुओं का वह दल होता है, जो शस्त्र विद्या में भी पारंगत रहता है.

क्या होती है पेशवाई?

जब कुंभ में नाचते-गाते धूमधाम से अखाड़े जाते हैं, तो उसे  पेशवाई कहते हैं. कहा जाता है कि शंकराचार्य ने आठवीं सदी में 13 अखाड़े बनाए थे. तब से वही अखाड़े बने हुए थे. लेकिन इस बार एक और अखाड़ा जुड़ गया है, जिस कारण इस बार कुंभ में 14 अखाड़ों की पेशवाई देखने की मिलेगी.

आइए जानें इन 14 अखाड़ों के बारे में…

1. अटल अखाड़ा- इनके ईष्ट देव भगवान गणेश हैं. इस अखाड़े में केवल ब्राह्मण, क्षत्रिय और वैश्य दीक्षा ले सकते हैं और कोई अन्य इस अखाड़े में नहीं आ सकता है. यह सबसे प्राचीन अखाड़ों में से एक माना जाता है.

2. अवाहन अखाड़ा- इनके ईष्ट देव श्री दत्तात्रेय और श्री गजानन दोनो हैं. इस अखाड़े का केंद्र स्थान काशी है.

3. निरंजनी अखाड़ा- यह अखाड़ा सबसे ज्यादा शिक्षित अखाड़ा है. इस अखाड़े में करीब 50 महामंडलेश्र्चर हैं. इनके ईष्ट देव भगवान शंकर के पुत्र कार्तिक हैं. इस अखाड़े की स्थापना 826 ईसवी में हुई थी.

4. पंचाग्नि अखाड़ा-इस अखाड़े में केवल ब्रह्मचारी ब्राह्मण ही दीक्षा ले सकते है. इनकी इष्ट देव गायत्री हैं और इनका प्रधान केंद्र काशी है.

5. महानिर्वाण अखाड़ा- महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग की पूजा का जिम्‍मा इसी अखाड़े के पास है. इनके ईष्ट देव कपिल महामुनि हैं. इनकी स्थापना 671 ईसवी में हुई थी.

6. आनंद अखाड़ा- इस अखाड़े की स्थापना 855 ईसवी में हुई थी. इस अखाड़े के आचार्य का पद ही प्रमुख होता है. इसका केंद्र वाराणसी है.

7. निर्मोही अखाड़ा- वैष्णव संप्रदाय के तीनों अणि अखाड़ों में से इसी में सबसे ज्यादा अखाड़े शामिल हैं. इस अखाड़े की स्थापना रामानंदाचार्य ने 1720 में की थी. इस अखाड़े के मंदिर उत्तर प्रदेश, मध्या प्रदेश, गुजरात, बिहार, राजस्थान आदि जगहों पर स्थित हैं.

8. बड़ा उदासीन पंचायती अखाड़ा- इस अखाड़े की शुरुआत 1910 में हुई थी. इस अखाड़े के संस्थापक श्रीचंद्रआचार्य उदासीन हैं. इस अखाड़े उद्देश्‍य सेवा करना है.

9. नया उदासीन अखाड़ा– इस अखाड़े की शुरुआत 1710 में हुई थी. मान्यता है कि इस अखाड़े को बड़ा उदासीन अखाड़े के साधुओं ने बनाया था.

10. निर्मल अखाड़ा- इस अखाड़े की स्थापना श्रीदुर्गासिंह महाराज ने की थी, जिनके ईष्टदेव पुस्तक श्री गुरुग्रंथ साहिब हैं. कहा जाता है कि इस अखाड़े के लोगों को दूसरे अखाड़ों की तरह धूम्रपान करने की इजाजत नहीं है.

11. वैष्णव अखाड़ा- इस अखाड़े की स्थापना मध्यमुरारी द्वारा की गई थी.

12. नागपंथी गोरखनाथ अखाड़ा– इस अखाड़े की स्थापना 866 ईसवी में हुई, जिसके संस्थापक पीर शिवनाथ जी हैं.

13. जूना अखाड़ा- इस अखाड़े के ईष्टदेव रुद्रावतार दत्तात्रेय हैं. हरिद्वार में इस अखाड़े का आश्रम है. इस अखाड़े के पीठाधीश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरी महाराज हैं.

14. किन्नर अखाड़ा- अभी तक कुंभ में 13 अखाड़ों की पेशवाई होती थी, लेकिन इस बार कुंभ में किन्नर अखाड़ा भी शामिल हो चुका है. इस अखाड़े की महामंडलेश्वर लक्ष्मीनारायण त्रिपाठी हैं.

जोशीमठ के प्रभागीय वनाधिकारी किशन चंद केंद्रीय विजलेंस की टीम ने...

जोशीमठ के प्रभागीय वनाधिकारी किशन चंद की  जांच प्रदेश स्तर पर अभी चल ही रही थी कि बुधवार को केंद्रीय विजलेंस की टीम ने...

हेलीकाॅप्टर क्रेश, पायलट समेत दो मौत

उत्तरकाशी के मोरी तहसील के तहत ग्राम मोलडी के पास आपदा राहत का सामान ले जा रहा हेरिटेज कंपनी का हैलीकाॅप्टर क्रेश हो गया।...

HOUSE DESIGN

[td_block_social_counter custom_title=”STAY CONNECTED” facebook=”tagDiv” twitter=”envato” youtube=”envato”]

MAKE IT MODERN

LATEST REVIEWS

सम-विषम योजना: VIP को छूट की वड्रा ने की आलोचना 

नई दिल्ली। प्रदूषण नियंत्रण के लिए दिल्ली सरकार की ‘सम-विषम’ योजना में अति विशिष्ट व्यक्तियों को छूट दिए जाने की आलोचना करते हुए रॉबर्ट वड्रा...

PERFORMANCE TRAINING

कोटद्वार में फ़ैल रहा है नशे का करोबार

पौड़ी गढ़वाल।  गढ़वाल के प्रेवश द्वार कोटद्वार में इन दिनों नशे का करोबार खूब फल-फूल रहा है। पुलिस की नाकामी के चलते नशे के सौदागरों...

उत्तराखंड : पीएम ने सीएम को दिया भरोसा, विकास के लिए बजट मे नहीं...

दिल्ली से लौटकर सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा है कि उत्तराखंड के विकास के लिए बजट की कोई दिक्कत नहीं होगी। रावत ने...

अश्लील कपड़े देख शूटिंग छोड़ कर भागी टीवी एक्ट्रैस

मुंबई : वैसे तो आजकल अभिनेत्रियां छोटे कपड़े पहनने में बिलकुल भी झिझक नहीं करती हैं। लेकिन यहां मामला कुछ उल्टा ही है। जी हैं एक...

सलमान ने किंग खान के बारे में ये क्या कह डाला?

मुंबई। सलमान खान और शाहरुख खान के रिश्ते से बॉलीवुड अंजान नहीं है। दोनों की दुश्मनी जगजाहिर है। लेकिन लगता है दोनों में सुलह...

माघ पूर्णिमा पर बन रहा विशेष संयोग, पढ़ें

36 साल बाद इस साल माघ पूर्णिमा (तीन फरवरी) पर चंद्रमा और बृहस्पति के मिलन से गुरु चंद्र योग बन रहा है। ज्योतिषियों के अनुसार...

HOLIDAY RECIPES

E!’s Fashion Finder: Biggest Shows, Parties and Celebrity

All right. Well, take care yourself. I guess that's what you're best, presence old master? A tremor in the Force. The last time felt...

WRC RACING

HEALTH & FITNESS

BUSINESS