हंगामा, हाथापाई और फिर समझौता

0
323

21_03_2015-20ntlp162-c-2गरमपानी : पीपीपी मोड पर संचालित सीएचसी खैरना में शुक्रवार को खूब हंगामा हुआ। प्रसूता के इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए हरोली गांव के ग्रामीण अस्पताल पहुंच गए। डॉक्टरों से तीखी तकरार शुरू हो गई और नौबत हाथापाई तक पहुंच गई। इससे भड़के डॉक्टरों ने ओपीडी ठप कर दी। चिकित्सकों ने ग्रामीणों पर अभद्रता और जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाते हुए चौकी में तहरीर दी है। हालांकि घंटों हंगामे के बाद दोनों पक्षों में समझौता करा दिया गया।
हरोली के ग्रामीणों ने अस्पताल पहुंचकर डॉक्टरों पर पूर्व में भर्ती प्रसूता महिला के इलाज में लापरवाही की तोहमत मढ़ी। जबकि डॉक्टरों का आरोप था कि हरोली निवासी योगेश बोहरा, महेंद्र बोहरा, दिलीप बोहरा व कफुल्टा के दुर्गा सिंह ने ड्यूटी के दौरान चिकित्सकों से अभद्रता की। जान से मारने की धमकी भी दी। हंगामा काटते हुए हाथापाई पर उतारु ग्रामीणों की हरकत से गुस्साए चिकित्सकों ने कार्य बहिष्कार कर दिया। पूरा अस्पताल स्टाफ खैरना चौकी पहुंच गया। चौकी प्रभारी देवनाथ गोस्वामी को तहरीर सौंप मुकदमा दर्ज करने की मांग उठाई। इस दौरान प्रबंधक हेमेंद्र कुमार, स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. शैली सेंगर, हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. आरके झा, सर्जन डॉ. रमन, डॉ. चंद्रप्रकाश, डॉ. रेखा रावत आदि स्टाफ मौजूद रहा। चौकी प्रभारी देवनाथ गोस्वामी ने बताया कि दोनों पक्षों में समझौता करा दिया गया है।
इस बात पर उठा बवंडर
हरोली ग्राम पंचायत (बेतालघाट) के तोक बूंगा निवासी महेंद्र सिंह बोहरा के मुताबिक बीती 23 फरवरी को गांव के योगेश बोहरा की पत्‍‌नी दीपा देवी को डिलीवरी के लिए सीएचसी खैरना स्थित शील हॉस्पिटल लाया गया था। आरोप है कि इलाज में लापरवाही बरती गई। हालत बिगड़ी तो काफी देर बाद उसे हायर सेंटर रेफर किया गया। यही नहीं 13 मार्च को बूंगा के ही सुरेंद्र सिंह की पत्‍‌नी चंपा देवी के साथ भी यही रवैया अपनाया गया। महेंद्र के अनुसार बीती 14 मार्च को इस मामले में सीएमएस को शिकायती पत्र दिया गया। शील प्रबंधन ने जांच बैठाई और रिपोर्ट में अस्पताल स्तर पर किसी भी किस्म की लापरवाही से इन्कार कर दिया था।
चिकित्सक बोले- अराजकता नहीं झेलेंगे
अस्पताल में एक माह पुराने मुद्दे पर हंगामे को चिकित्सकों ने स्थानीय राजनीति का हिस्सा करार दिया। कहा कि निहित स्वार्थ व लाभ प्रभावित होने के कारण लोगों को उकसा कर माहौल खराब किया जा रहा। स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ.शैली व सर्जन डॉ.रमन ने साफ कहा यदि भड़काने की प्रवृत्ति व अराजकता बंद न हुई तो वह इस्तीफा देकर चले जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here