और स्कूल की दीवारें बोल उठी ! ‘दीपक’ की रोशनी संग ‘बुरांश’ की छाया में छात्रों नें कूची और रंगों से भरी कल्पनाओं की ऊँची उड़ान! 

संजय चौहान

रूद्रप्रयाग जनपद के ऊखीमठ ब्लाक का राजकीय आर्दश इंटर काॅलेज ऊखीमठ एक बार फिर लोगों के मध्य सुर्खियों में हैं। हो भी क्यों नहीं क्योंकि विद्यालय के शिक्षक दीपक नेगी की बेहतरीन कला को विद्यालय के छात्र छात्राएँ इन दिनों कूची और रंगों से नई ऊचांईयों पर ले जा रहे हैं। परिणामस्वरूप विद्यालय की वीरान दीवारें आजकल एक दूसरे से गुफ्तगु कर रही हैं। छात्र छात्राओं के हुनर से स्कूल की दीवारें बोल उठी हैं।

आपको बताते चले की शिक्षक दीपक वर्तमान में राजकीय इंटर कॉलेज उखीमठ में कार्यरत हैं। जो एक शिक्षक के साथ साथ बेहतरीन चित्रकार भी हैं, जिनकी बनाई गई पेंटिंग कई किताबों, अखबारों और मैग्जीनों की शोभा बढ़ा चुकी हैं। आज हर कोई इनकी कला का मुरीद है। वहीं स्व. बीमोहन नेगी जी के बाद दीपक नेगी कविता पोस्टर विधा को भी नया आयाम देने में बड़ी शिद्दत से जुटे हुये हैं।

गौरतलब है कि ऊखीमठ विद्यालय में आते ही दीपक ने ठान लिया था की शिक्षा के इतर कुछ अलग किया जायेगा। जिसके तहत इनके प्रयासों से सर्वप्रथम विद्यालय में बुरांस सांस्कृतिक क्लब की स्थापना की गयी। जिसके अंतर्गत छात्र छात्राओं को शिक्षा के अलावा सांस्कृतिक गतिविधियों के साथ ही साथ पर्यावरण संरक्षण, सिलाई बुनाई, सहित अन्य क्रिया कलापों की जानकारी मुहैया करवाई जाती है। जिसकी बानगी विद्यालय में मौजूद बुरांस भवन में देखने को मिलती हैं। जहां हर साज्जो, सामन उपलब्ध है। विद्यालय के शैक्षिक भ्रमणों में स्कुल के नौनिहाल जहां भी जाते हैं वहां साफ़ सफाई अभियान चलातें हैं ताकि हिमालय सुरक्षित रहे। इसके अलावा दीपक नेगी द्वारा विद्यालय में पोस्टर पेंटिंग के माध्यम से छात्र- छात्राओं की कल्पनाओं को नई उड़ान दी गई। पोस्टर पेंटिंग के माध्यम से छात्र बेटी बचाओ बेटी पढाओ, सौर उर्जा, पेड़ लगाओ हरियाली बचाओ, स्वच्छ गांव- स्वच्छ देश, योग से खुशहाल जीवन, महिला सशक्तीकरण, मेरा किसान मेरा अन्नदाता, सहित अनगिनत थीम को लेकर अपनी कविताओं को कागज के कैनवास पर उतारते हैं। जो उनके भविष्य को सपनो के पंख लगातें हैं। पोस्टर पेंटिंग व रैलियों के माध्यम से वो समाज में जनजागरूकता अभियान भी चलातें हैं।