Kumbh 2019: जानें, क्या है प्रयागराज और कुंभ की महिमा

0
231

प्रयागराज में दुनिया का सबसे बड़ा मेला कुंभ मेला लग रहा है. मकर संक्रांति के साथ कुंभ मेले की शुरुआत हो जाएगी. हिंदू धर्म के अनुसार मान्यता है कि कुंभ में किसी भी नदी में स्नान करने से सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है. यही वजह है कि कुंभ में देश-विदेश से लोग पवित्र नदी में डुबकी लगाने पहुंचते हैं. इस बार कुंभ में 12 करोड़ लोगों के आने का अनुमान है.

तीर्थ राज प्रयाग की देव भूमि पर गंगा, यमुना और सरस्वती का संगम होता है इसलिए इस स्थान का महत्व और महिमा सर्वोपरि है. तीर्थराज प्रयाग का उल्लेख धर्मशास्त्रों में भी मिलता है. कहते हैं कि यही वो स्थान है, जहां से प्रभु राम को केवट ने गंगा पार कराया था.

12 वर्षों में लगता है कुंभ

कुंभ मेले का आयोजन प्राचीन काल से हो रहा है. कुंभ मेले का आयोजन चार जगहों पर होता है. हरिद्वार, प्रयाग, नासिक और उज्जैन में कुंभ का मेला होता है. इन चार स्थानों पर प्रत्येक 3 वर्ष के अंतराल में कुंभ का आयोजन होता है इसीलिए किसी एक स्थान पर प्रत्येक 12 वर्ष बाद ही कुंभ का आयोजन होता है.

शास्त्रों में भी है कुंभ का जिक्र

कुंभ मेले का वर्णन शास्त्रों में मिलता है. कहते हैं इस पर्व का संबंध समुद्र मंथन से रहा है. इससे जुड़ी एक पौराणिक कथा भी है. इस पर्व का संबंध समुद्र मंथन के दौरान अंत में निकले अमृत कलश से जुड़ा है. देवता-असुर जब अमृत कलश को एक दूसरे से छीन रह थे, तब उसकी कुछ बूंदें धरती की तीन नदियों में गिरी थीं.  जिन तीन नदियों में अमृत बूंदे गिरी थी वे हैं गंगा, गोदावरी और क्षिप्रा. जहां ये बूंदें गिरी थीं, उस स्थान पर कुंभ का आयोजन होता है.

प्रयाग में इस बार अर्ध कुंभ का आयोजन हो रहा है. अब सवाल ये भी है कि कुंभ और अर्ध कुंभ में क्या अंतर है.

अर्धकुंभ क्या है?

हरिद्वार और प्रयाग में दो कुंभ पर्वों के बीच 6 वर्ष के अंतराल में अर्धकुंभ का आयोजन होता है. पौराणिक ग्रंथों में भी कुंभ एवं अर्ध कुंभ के आयोजन को लेकर ज्योतिषीय विश्लेषण हैं. कुंभ पर्व हर 3 साल के अंतराल पर हरिद्वार से शुरू होता है. हरिद्वार के बाद कुंभ पर्व प्रयाग नासिक और उज्जैन में मनाया जाता है. प्रयाग और हरिद्वार में मनाए जाने वाले कुंभ पर्व में और प्रयाग और नासिक में मनाए जाने वाले कुंभ पर्व के बीच में 3 सालों का अंतर होता है. यहां माघ मेला संगम पर आयोजित एक वार्षिक समारोह है.

कुंभ पर्व हिंदू धर्म का एक बहुत ही श्रद्धेय पर्व है जिसमें करोड़ों श्रद्धालु कुंभ पर्व वाले स्थानों हरिद्वार, प्रयाग, उज्जैन और नासिक में स्नान करते हैं. शास्त्रों के मुताबिक, चार विशेष स्थानों पर ही कुंभ मेला लग सकता है. नासिक में गोदावरी नदी के तट पर, उज्जैन में क्षिप्रा नदी के तट पर, हरिद्वार और प्रयागराज में गंगा नदी के तट पर ही कुंभ का आयोजन हो सकता है. इनमें से प्रत्येक स्थान पर हर 12वें साल में, हरिद्वार और प्रयाग में दो कुंभ पर्वों के बीच छह साल के अंतराल में अर्धकुंभ भी होता है.

कुंभ मेले की महिमा

कुंभ पर्व का सीधा सम्बन्ध तारों से है. अमृत कलश को स्वर्गलोक तक ले जाने में जयंत को 12 दिन लगे. देवों का एक दिन मनुष्यों के 1 वर्ष के बराबर है. इसीलिए तारों के क्रम के अनुसार हर 12वें वर्ष कुंभ पर्व विभिन्न तीर्थ स्थानों पर आयोजित होता है. युद्ध के दौरान सूर्य, चंद्र और शनि आदि देवताओं ने कलश की रक्षा की थी. उस समय की वर्तमान राशियों पर रक्षा करने वाले चंद्र-सूर्यादिक ग्रह जब आते हैं. तब कुंभ का योग होता है, चारों पवित्र स्थलों पर प्रत्येक 3 वर्ष के अंतराल पर क्रमानुसार कुंभ मेले का आयोजन होता है.

अमृत की बूंदे छलकने के समय जिन राशियों में सूर्य, चंद्रमा, बृहस्पति की स्थिति के विशिष्ट योग के अवसर रहते हैं. वहां कुंभ पर्व का इन राशियों में गृहों के संयोग पर आयोजन होता है. इस अमृत कलश की रक्षा में सूर्य, गुरु और चन्द्रमा के विशेष प्रयत्न रहे थे. इसी कारण इन्हीं गृहों की उन विशिष्ट स्थितियों में कुंभ पर्व मनाने की परम्परा है.

कुंभ में स्नान के लाभ-

कुंभ में स्नान करने से इंसान के पापों का प्रायश्चित हो जाता है.

कुंभ का मेला मकर संक्रांति के दिन शुरु होता है.

इस दिन जो योग बनता है उसे कुंभ स्नान-योग कहते हैं.

मान्यता है कि किसी भी कुंभ मेले में पवित्र नदी में स्नान से सभी पाप धुल जाते हैं

कुंभ स्नान से मनुष्य को मोक्ष और सदंगति की प्राप्ति होती है.

मकर संक्रांति के साथ ही संगम तट पर अर्ध कुंभ की शुरुआत हो जाएगी. देश के साथ साथ विदेशों से भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पावन गंगा में आस्था की डुबकी लगाने पहुंचेंगे.

डॉक्टर से लेकर पुलिस के जवान ‘शक्तिमान’ की देखरेख में लगे!

शक्तिमान इन दिनों डॉक्टरों की देखरेख में है क्योंकि शक्तिमान की तिमारदार और डॉक्टर नहीं चाहते कि शक्तिमान को लेकर कोई भी लापरवाही बरती...

जोशीमठ के प्रभागीय वनाधिकारी किशन चंद केंद्रीय विजलेंस की टीम ने...

जोशीमठ के प्रभागीय वनाधिकारी किशन चंद की  जांच प्रदेश स्तर पर अभी चल ही रही थी कि बुधवार को केंद्रीय विजलेंस की टीम ने...

हेलीकाॅप्टर क्रेश, पायलट समेत दो मौत

उत्तरकाशी के मोरी तहसील के तहत ग्राम मोलडी के पास आपदा राहत का सामान ले जा रहा हेरिटेज कंपनी का हैलीकाॅप्टर क्रेश हो गया।...

HOUSE DESIGN

[td_block_social_counter custom_title=”STAY CONNECTED” facebook=”tagDiv” twitter=”envato” youtube=”envato”]

MAKE IT MODERN

LATEST REVIEWS

आधे उत्तराखंड में छात्रों में उबाल, कब चेतेगी सरकार?

शिक्षा में सरकार का मुख्य फोकस राष्ट्रगान और ड्रेस कोड पर है लेकिन स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद कालेज में प्रवेश लेने की...

PERFORMANCE TRAINING

दर्शन कर धन्य हुए शिवभक्त

बाबा बुढ्डा अमरनाथ जी के दर्शन को आने वाले पहले जत्थे में शामिल श्रद्धालुओं ने शनिवार सुबह बाबा बुढ्डा अमरनाथ जी के दर्शन किए।...

इसरो केंद्र के ऊपर उड़ती दिखी रहस्यमयी चीज

तिरुनेलवेली (तमिलनाडु)। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के महेंद्रगिरी केंद्र और आसपास के वन क्षेत्रों के ऊपर चरवाहों ने कथित रूप से उड़ने वाली एक...

आखिर क्यों एक दूसरे से जुदा हो गए करिश्मा-अभिषेक!

मुंबई। अभिषेक बच्चन पूर्व मिस वर्ल्ड ऐश्वर्या राय के पति हैं, लेकिन अभिषेक की जिंदगी में सबसे पहला प्यार करिश्मा कपूर थीं, इनकी लव स्टोरी सारी दुनिया जानती...

राष्ट्रपति शासन मामले पर आज भी सुनवाई जारी, आ सकता है कोई बड़ा फैसला!

उत्तराखण्ड की राजनिती के लिए आज का दिन अहम है, कोर्ट आज यानि मंगलवार को बजट अध्यादेश व राष्ट्रपति शासन मामले पर अपना फैसला...

कोलकाता में भारत-पाक मैच पर बोले गांगुली !

बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) के अध्यक्ष सौरभ गांगुली ने कहा है कि भारत-पाकिस्तान के बीच मैच का आयोजन कराना मैच खेलने से ज्यादा आसान...

HOLIDAY RECIPES

जिलाधिकारी ने जाना निर्माण कार्यों का हाल

हल्द्वानी। जिलाधिकारी दीपक रावत ने सड़क चौड़ीकरण कार्य का निरीक्षण कर अधिकारियों को निर्माण कार्यों में गुणवत्ता बनाए रखने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने काठगोदाम...

WRC RACING

HEALTH & FITNESS

BUSINESS